Typhoid: टाइफाइड का लक्षण, कारण व जबरदस्त घरेलू इलाज जाने पूरी न्यूज़

Typhoid: टाइफाइड का लक्षण, कारण व जबरदस्त घरेलू इलाज जाने पूरी न्यूज़

टाइफाइड बुखार होने का कारण। टाइफाइड का लक्षण। टाइफाइड का इलाज। टाइफाइड में क्या खाना चाहिए? टाइफाइड में क्या परहेज करना चाहिए? टाइफाइड कितने दिन में ठीक होता है?
अगर आप टाइफाइड का का इलाज जानना चाहते हैं तो बिल्कुल सही जगह आए हैं बस आपको नीचे पढ़ते जाए और टाइफाइड बुखार से जुड़े हर सवालों का जवाब पाएं।
टाइफाइड ठीक होने के बाद कमजोरी को दूर करने के लिए क्या-क्या खाना चाहिए?

टाइफाइड बुखार को जड़ से खत्म कैसे करें

टाइफाइड होने का कारण

टाइफाइड होने के बहुत सारे कारण हैं। आज के समय में टाइफाइड लगभग 90% लोगों में है। टाइफाइड के मरीज बहुत ही ज्यादा संख्या में है। यह एक ऐसी बीमारी है जो हमारे खानपान में लापरवाही हो जाए तो टाइफाइड हो जाता है। यह बीमारी बहुत ही जल्दी फैलता है।

टायफाइड को और भी नाम से जाना जाता है। गांव में इसे मोतीझरा के नाम से भी जाना जाता है। इससे मियादी बुखार भी कहा जाता है। इसके फैलने का मुख्य कारण सही खानपान ना होना है। साफ सफाई का विशेष रूप से ध्यान नहीं रखा जाए तो यह रोग बहुत ही जल्दी हो जाता है और जल्दी ठीक नहीं होता है। यह रोग इतना भयानक है कि जान भी ले सकता है।

इसे जानलेवा रोग भी कह सकते हैं। आज हम आपको टाइफाइड फैलने के कारण बताएंगे और आप कारण जान जाएंगे तो आप उसे बचेंगे और टाइफाइड जैसे भयानक बीमारी से बच जाएंगे।

टाइफाइड रोग गंदा पानी पीने और गंदा खाना खाने से होता है। अगर आप दूषित पानी पीते हैं तो टाइफाइड होने का चांस बहुत ही ज्यादा रहता है। इसलिए आपको बिल्कुल साफ पानी पीना चाहिए।

टाइफाइड से बचना चाहते हैं तो बिना हाथ धो ले खाना ना खाए और जिस खाने पर मक्खी बैठ जाए उसे नहीं खाना चाहिए। यानी सब मिलाकर साफ सफाई का विशेष रूप से ध्यान देना होगा। अगर आप साफ सफाई का विशेष रूप से ध्यान देते हैं तो आप टाइफाइड से बड़ी आसानी से बच जाएंगे।

सालमोनेला टायफी नामक एक जीवाणु होता है। अगर यह जीवाणु हमारे कोशिका के अंदर चला गया तो हमें तुरंत टाइफाइड हो जाएगा।

किसी पर्सन जो टाइफाइड से संक्रमित है। उसका थूक पर अगर मक्खी बैठी और आपके खाने में जो भी जी आप खा पी रहे हैं उस पर बैठी गई तो टाइफाइड का बैक्ट्रिया आपके कोशिका के अंदर चला जाएगा तुरंत आपको भी टाइफाइड हो जाएगा।

टाइफाइड होने का मुख्य कारण है साफ सफाई का विशेष रूप सेध्यान ना रखना गंदे पानी पीना और गंदा खाना खाना।

अब आपको मालूम हो गया होगा कि टाइफाइड होने के क्या कारण है। अब बात करते हैं इसके लक्षण के कैसे पता करें कि हमें टाइफाइड है या नहीं।

टाइफाइड के लक्षण क्या है?

टाइफाइड जिसे भी हो जाएगा तो दिखेंगे यह लक्षण।

सिर में दर्द होना पेट खराब होना हमेशा उल्टी जैसा फील होना और कभी-कभी बहुत तेज बुखार भी लग जाता है। टाइफाइड में खून की कमी बहुत ज्यादा हो जाती है। बहुत ज्यादा कमजोरी होना। पूरे शरीर में दर्द रहना|

शरीर का बहुत दुबला पतला हो जाना। खाने का अच्छी तरह नहीं पचना। टाइफाइड के यह सब लक्षण है।

काफी लोग सोचते हैं कि टाइफाइड तभी होता है जब बहुत तेज बुखार हो लेकिन यह गलत है। हमारे शरीर के अंदर टाइफाइड बहुत दिनों से रहता है और हमें पता भी नहीं चल पाता।

टाइफाइड में अक्सर ये होता है कि अंदर ही अंदर बुखार रहता है और ऊपर से बुखार नहीं लगता। सिर में दर्द बना रहता है और और पाचन तंत्र बहुत ज्यादा कमजोर हो जाता है और शरीरधीरे-धीरे दुबला पतला होने लगता है हमेशा बदन में दर्द रहेगा और थकान जैसा महसूस होता रहेगा।

और पता भी नहीं चल पाता है कि ऐसा क्यों हो रहा है। जब कि टाइफाइड के वजह से होता रहता ह। अगर आपको खुद में या किसी में यह लक्षण दिखे तो तुरंत टाइफाइड चेक करवाएं।

क्योंकि टाइफाइड अगर एक बार जिसे हो गया तो वह बिना अच्छे से इलाज कराए खत्म नहीं होगा। और अंदर ही अंदर यह बुखार पहले लीवर में हो जाएगा फिर मस्तिष्क में और फिर बाद में किसी भी प्रकार का कोई भी दवाओं का कोई असर नहीं पड़ेगा और उस पर्सन की मौत हो जाएगी।

अगर आप टाइफाइड के मामले में जरा सा भी लापरवाही करते हैं तो यह जानलेवा हो सकता है। इसलिए अगर आपको शरीर में कमजोरी थकान सिर में दर्द पाचन तंत्र का खराब होना पेट में दर्द होना जैसे लक्षण दिखे तो तुरंत टाइफाइड का जांच कराएं।

ऊपर पढ़कर आपको पता चल गया होगा कि टाइफाइड के क्या लक्षण है।

टाइफाइड का घरेलू उपचार क्या है?

टाइफाइड में ज्यादा लोग अंग्रेजी दवाओं का ही सेवन करते हैं। टाइफाइड की अंग्रेजी दवा बहुत ज्यादा महंगी होती है और हमारे लीवर को बहुत ज्यादा कमजोर कर देती है। टाइफाइड में एंटीबायोटिक दवा दी जाती है। यह दवा बहुत ही ज्यादा तेज होते हैं छोटे बच्चों को अगर आप यह दवा देंगे तो उनका लीवर हमेशा के लिए खराब हो जाएगा और उन्हें पेट से जुड़ी समस्या होने लगेगी।

बहुत लोगों को यह लगता है कि टाइफाइड का घरेलू उपचार है ही नहीं। और उन्हें ना चाहते हुए भी टाइफाइड को खत्म करने के लिए अंग्रेजी दवा खाने पड़ती है।

और यह दवा इतनी तेज होती है कि हमारे पाचन तंत्र को कमजोर करती ही है और हमारे शरीर में बहुत ज्यादा गर्मी भी हो जाती है। इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए इसलिए हमने आज आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बताने का फैसला किया है जिसे अपनाकर आप टाइफाइड से बहुत जल्दी छुटकारा पा लेंगे।।

अगर आप टाइफाइड का जांच कराते हैं और आपके अंदर बहुत ज्यादा टाइफाइड हो गया है तो ऐसे में आपको अंग्रेजी दवाओं का सेवन कर लेना चाहिए।

आप इंजेक्शन भी ले सकते हैं।

अंग्रेजी दवाएं आप खुद से ना लें अपने डॉक्टर के सलाह से ही लें।

क्योंकि डॉक्टर को पता होता है कि आपको कितना तेज दवा देना है। अगर आप अंग्रेजी दवाएं नहीं खाना चाहते या फिर आपको सूट नहीं करता है तो। आपको चिंता करने की कोई बात नहीं है क्योंकि हम आपको आज टाइफाइड का बहुत ही जबरदस्त असरदार घरेलू उपचार बताने वाले हैं। जिसे करने से आप बहुत जल्दी टाइफाइड को जड़ से खत्म कर देंगे।

टाइफाइड ठीक करने का घरेलू नुस्खा

टाइफाइड ठीक करने के लिए हम आज आपको जो नुस्खा बताने जा रहे हैं यह बहुत ही ज्यादा असरदार है और हंड्रेड परसेंट काम करता है अगर आप इसे अपनाते हैं तो आप टाइफाइड से बहुत ही जल्दी छुटकारा पा लेंगे।

इसके लिए आपको लेना है। 8 से 10 मुनक्का, 4 से 5 अंजीर 1 से 2 ग्राम खूब काला, अब आप को इसे पीसकर चटनी बनाना है। और रोज सुबह-शाम एक-एक चम्मच खाएं। इससे टाइफाइड जड़ से खत्म हो जाएगा।

टाइफाइड को जड़ से खत्म करने के लिए यह बहुत ही अच्छा नुस्खा है अगर आप रोज 8 से 10 दिन तक ऐसे करते हैं तो आपका टाइफाइड बुखार कितना भी ज्यादा हो बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा। टाइफाइड में हमें पेट से जुड़ी बहुत सारी समस्या होने लगती है यह नुस्खा पेट से जुड़ी बीमारियों को ठीक करने में भी बहुत ज्यादा कारगर है।

अगर आप वाकई टाइफाइड को घरेलू नुस्खे से जड़ से खत्म करना चाहते हैं तो आप यह नुस्खा जरूर आजमाएं आपको बहुत ज्यादा फायदा होगा।

छोटे बच्चों को आप अंग्रेजी दवा बिल्कुल भी ना खिलाए घरेलू नुस्खा से ही उनके बीमारियों का इलाज करने का कोशिश करें क्योंकि छोटे बच्चों का लीवर बहुत जल्दी खराब हो जाएगा अंग्रेजी दवाओं से।

टाइफाइड में क्या-क्या खाना चाहिए?

बहुत सारे लोगों को यह सवाल परेशान करता है कि टाइफाइड में हम क्या खाएं क्या ना खाएं। टाइफाइड में जैसा कि हमने आपको पहले ही बता दिया है कि हमारा लीवर बहुत ज्यादा कमजोर हो गया होता है।

और अगर आप ज्यादा तली भुनी चीजें खाएंगे तो आपको पेट से जुड़ी बहुत ज्यादा समस्या होने लगेगी।

आपको टाइफाइड में रिफाइंड ऑयल वाली चीजें और ज्यादा तीखा मसालेदार चीजें नहीं खाना चाहिए।


आपको बिल्कुल सादा खाना खाना है हरी सब्जियां फल और दूध भी पीना है।

डॉक्टर का यह कहना है कि टाइफाइड में भूरा चावल बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए सफेद चावल थोड़ा सा खा सकते हैं ज्यादा रोटी ही खाना चाहिए। आप ज्यादा चटपटी मसालेदार चीजों से परहेज करे।

सब मिलाकर आपको ऐसी चीजें नहीं खानी है जो आप खा लेते हैं तो आपको पेट मैं समस्या होने लगती है।

टाइफाइड में बहुत ज्यादा कमजोरी और खून की कमी हो जाती है तो इसीलिए आपको बहुत ज्यादा हेल्दी खाना खाना है ज्यादा फलों का सेवन करना है ताकि आप जल्दी से कमजोरी को दूर कर सके।

आप रोज सुबह चार से पांच पत्ते तुलसी के जरूर खाएं।

इसे खाने से अगर आपको टाइफाइड है तो वह बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा और अगर नहीं है तो कभी होगा भी नहीं।

तुलसी का पत्ता हमारे सेहत के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है इसलिए आपको रोज सुबह चार से पांच पत्ते तुलसी के जरूर खाने ही चाहिए इससे आवाज भी पतली होती है और इसके बहुत सारे फायदे हैं।

टाइफाइड में पपीता का पत्ता बहुत ही बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है।

आप पपीते के पत्ते को पानि में उबाल ले पपीते के पत्ते को 200 ग्राम पानी में उबालना है और तब तक उबलते रहना है जब तक पानी आधा यानी 100 ग्राम बच जाए। आपको पानी को छान लेना है और रोज सुबह इसे पीना है।

इससे आपको टाइफाइड बुखार में बहुत ही जल्दी आराम मिल जाएगा और पेट में जितने भी प्रॉब्लम है सब ठीक हो जाएंगे टाइफाइड में बहुत ज्यादा गैस बनता है तो आपको पेट के गैस से भी छुटकारा मिल जाएगा।

आपको तो पता ही होगा कि पपीते का पत्ता हमारे प्लेट लिस्ट को बढ़ाता है। जिसके अंदर प्लेट लिस्ट की कमी हो जाती है तो डॉक्टर उसे पपीते के पत्ते का जूस पीने को कहता है ताकि उसका प्लेट लिस्ट बढ़ जाए।

पपीते के पत्ते से और बीमारियों का भी इलाज किया जाता है। लेकिन हम आप को बुखार का इलाज यानी टाइफाइड का इलाज बता रहे हैं तो टाइफाइड में यह बहुत ही ज्यादा काम करता है । इसलिए आप टाइफाइड में पपीते के पत्ते के जूस का सेवन जरूर करें।

दूध में काली मिर्च डालकर उबाल ले तभी दूध को पिएं नहीं तो गैस बनने का खतरा रहता है टाइफाइड में वैसे ही हमारा लीवर कमजोर हो जाता है। इसलिए आपको दूध में काली मिर्च डालकर ही पीना है।

टाइफाइड में बहुत ही ज्यादा पानी पीना चाहिए।

अगर आप पानी कम पीते हैं तो आपको बहुत सारे रोग हो सकते हैं कब्ज की भी प्रॉब्लम हो सकती है इसलिए आपको पानी बहुत ज्यादा पीना है।

अगर आप इन सभी चीजों को खाते और पीते हैं तो आप टाइफाइड से बहुत जल्दी छुटकारा पा लेंगे।

टाइफाइड में क्या परहेज करना चाहिए?

परहेज हर बीमारी में किया जाता है। अगर आप दवा के साथ-साथ परहेज भी करेंगे तो आप बहुत जल्दी ठीक हो जाएंगे।

इसलिए डॉक्टर हमें हमेशा हर बीमारी में परहेज बताते हैं।

हमने आपको ऊपर ही बता दिया है कि आपको क्या खाना चाहिए और क्या नहीं।

आपको ज्यादा कार्बोहाइड्रेट वाली चीजें नहीं खानी चाहिए।

हमे सेहतमंद रहने के लिए कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन विटामिन से युक्त चीजें खानी चाहिए यह तो आप सभी को पता होगा लेकिन ज्यादा नहीं खाने चाहिए टाइफाइड में।

और ज्यादा जंक फूड और ऐसी सब्जियां नहीं खानी चाहिए जिसे खाने के बाद पेट में गैस बनता हो।। टाइफाइड में बाहर का खाना नहीं खाना चाहिए।बल्कि घर का बना हेल्दी खाना चाहिए।

खाना खाने के तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए अगर आप खाना खाने के तुरंत बाद पानी पी लेंगे तो आपका खाना अच्छे से नहींपचेगा और आपको गैस की समस्या दुगनी हो जाएगी इसलिए आपको खाना खाने के आधे या 1 घंटे बाद पानी पीना चाहिए।

टाइफाइड कितने दिन में ठीक होता है?

जैसे ही हमें कोई भी बीमारी होती है तो हम सबसे पहले यह सोचते हैं कि अब हम ठीक कितने दिन में होंगे वैसे ही अगर टाइफाइड भी किसी को होता है तो तुरंत उसके दिमाग में यह आता है कि टाइफाइड तो हो गया लेकिन इससे जल्द से जल्द कैसे ठीक होए और ठीक होने में लगभग कितना दिन लग जाएगा।

इसलिए हम आपको आज बताएंगे कि टाइफाइड को कितने दिन में ठीक किया जा सकता है।

अगर आप टाइफाइड है का इलाज किसी डॉक्टर से करवा रहे हैं और दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो लगभग 15 से 20 दिन लग जाएगा, टाइफाइड ठीक होने में।

टाइफाइड में वैसे राहत तभी मिल जाते हैं जब हम पहले दिन से ही दवा खाना स्टार्ट करते हैं। पर इसे जड़ से खत्म होने में 15 से 20 दिन लग जाते हैं।

अगर आप दवा के साथ-साथ पर है जी और घरेलू नुस्खों को अपनाते हैं तो आप बहुत ही जल्दी 6 से 7 दिन में टाइफाइड बुखार से छुटकारा पा लेंगे।

और अगर सिर्फ घरेलू नुस्खों को अपनाते हैं और परहेज करते हैं तो भी आप 15 से 20 दिन में टाइफाइड को जड़ से खत्म कर देंगे।

अगर आप किसी भी बीमारी से बचना चाहते हैं तो आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होना चाहिए। इसलिए आपको ऐसी चीजें खानी चाहिए जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करें और आपका इम्यून सिस्टम बैक्टीरिया से लड़कर जल्दी से उसे खत्म कर दें और आप जल्दी से ठीक हो जाएं।

टाइफाइड ठीक होने के बाद क्या-क्या खाएं कमजोरी दूर करने के लिए?

जब टाइफाइड ठीक हो जाता है तो हम बहुत खुश हो जाते हैं कि चलो हमें बुखार से छुटकारा मिल गया।

लेकिन टाइफाइड ठीक होने के बाद भी कमजोरी जैसा लगता रहता है इसलिए कि टाइफाइड जब होता है तो आपको बहुत ज्यादा कमजोर कर देता है।

और इसलिए हाथ पैरों में थकान रहती है तो हमें लगता है कि शायद टाइफाइड ठीक नहीं हुआ है।

लेकिन टाइफाइड ठीक हो गया रहता है और कमजोरी से ऐसा लगता है।

अब कमजोरी दूर करने के लिए क्या खाएं आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा।

कमजोरी दूर करने के लिए आपको केले का सेवन करना चाहिए।

सुबह एक केला खाकर दूध पीना चाहिए ऐसा करने से आप की कमजोरी की समस्या बहुत जल्दी ठीक हो जाएगी।

बादाम का सेवन

10 से 12 बादाम रात को पानी में भिगो देना है और सुबह इस का पानी भी पी लेना है और बादाम को भी खा लेना है और इसे खाने के बाद एक गिलास मलाई वाला दूध पी लेना है।

इससे आपकी कमजोरी बहुत जल्द खत्म हो जाएगी और आपको बहुत ज्यादा ताकत मिलेगी।

चने और गुड़ का सेवन

रोज सुबह भीगे हुए चने के साथ गुड़ खाने से कमजोरी बहुत जल्दी खत्म हो जाती है इसलिए आपको भीगे हुए चने और गुड़ साथ में जरूर खाना चाहिए।

अंडे का सेवन

रोज सुबह एक या दो उबले हुए अंडे खाने से बहुत ज्यादा एनर्जी मिलती है और आपकी कमजोरी भी बहुत जल्दी खत्म हो जाएगी और आप फिर से मोटा ताजा और स्वस्थ हो जाएंगे।

कमजोरी दूर करने के लिए आपको ज्यादा कैलोरी युक्त चीजें खानी चाहिए आप अपने डाइट में अनार सेब अंगूर और फलों को जरूर शामिल करें।

कमजोरी दूर करने के लिए केले का सेवन बहुत ही ज्यादा अच्छा होता है इससे बहुत लाभ मिलता है इसलिए आपको रोज सुबह एक या दो केले जरूर खाने चाहिए।

टाइफाइड में आपको अनार जरूर खाना है। इसे खाने से खून की कमी पूर्ति होती है।

क्योंकि टाइफाइड में बहुत ज्यादा खून की कमी हो जाता है इसलिए आपको अनार का सेवन जरूर करना चाहिए।

अपने खाने में रोज आपको दाल और हरी सब्जियां खाना है और पालक का साग जरूर खाना है।

पालक हमारी सेहत के लिए बहुत ज्यादा अच्छा होता है खून की कमी को बहुत जल्दी पूरा करता है क्योंकि पालक में लोह तत्व पाए जाते हैं।

जो हमारे शरीर में खून की कमी को पूरा करता है।

पालक खाने से आंख की रोशनी भी तेज होती है।

सलाद का सेवन

कमजोरी दूर करने के लिए सलाद का सेवन जरूर करना चाहिए आपको लगभग रोज एक प्लेट सलाद खाना है।

अगर आप इस आर्टिकल में बताई गई सारी चीजों को फॉलो करेंगे तो आपको टाइफाइड से बहुत जल्दी छुटकारा मिल जाएगा और आप काफी ज्यादा हैल्दी स्वस्थ और मजबूत हो जाएंगे और आप का इम्यूनिटी सिस्टम भी मजबूत हो जाएगा।

अगर आप इस आर्टिकल में बताए जाने वाली सभी चीजों को ध्यान में रखकर खाएंगे पिएंगे तो आपको टाइफाइड है तो बहुत जल्दी ठीक हो जाएगा और अगर नहीं है तो जल्दी होगा भी नहीं।

आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट में हमें जरूर बताएं और अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो जरूर पूछें।

Health संबंधित जानकारीया पाने के लिए आप हमारे ब्लाॅग वेबसाइट पर जरूर विजिट करे| और किसी भी बिमारी के उपचार के लिए डाॅक्टर से परामर्श जरूर ले ताकि आपको किसी भी बिमारी का सही और सटीक इलाज मिल सके| और नियमित व्यायाम जरूर करे जिससे आपका शरीर हस्ट पुस्ट, तंदूरुस्त और मजबूत बना रहे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: