Blue Veins: क्या आपके पैरो में दिखती है नीली नसें? हो सकता है गंभीर समस्या का संकेत जाने पूरी Health न्यूज़

Blue Veins: क्या आपके पैरो में दिखती है नीली नसें? हो सकता है गंभीर समस्या का संकेत

बहुत से लोगों के पैरों और बाहों में सामान्य से अधिक नसें होती हैं। इन नसों का रंग हरा, नीला या बैंगनी हो सकता है। अगर पैरों में नीली नसें दिखें तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि कुछ मामलों में ये नीली नसें गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत हो सकती हैं।
ये नीली नसें क्या हैं? कहा जाता है? यह लेख कारणों, लक्षणों और उपचार को कवर करेगा। एड़ी और घुटने के पीछे नीली और बैंगनी नसें अधिक आम हैं। इन नसों को वैरिकाज़ नसें कहा जाता है। कुछ मामलों में, ये नसें गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती हैं। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो चाहते हैं कि उनकी त्वचा पतली हो यानी हाथों में नसें दिखनी चाहिए। हाथ की नसों को दिखाने के लिए वे डाइट और एक्सरसाइज भी करते हैं। वहीं, कुछ लोगों के शरीर में सामान्य से अधिक नसें होती हैं। ये नसें हाथ, छाती, पैर और पीठ की मांसपेशियों में या कहीं और हो सकती हैं।

लेकिन अगर किसी के पैर की नसें दिखाई दे रही हैं और उसका रंग नीला है, तो यह किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है। नीली नसों को वैरिकाज़ नसें कहा जाता है और ज्यादातर लोग पैरों में इन वैरिकाज़ नसों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। जिससे समस्या और बढ़ सकती है। अगर आप भी अपने पैरों में नीली नसें देखते हैं, तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। क्योंकि इस लेख में हम बात करने जा रहे हैं कि वैरिकाज़ वेन्स क्या है, इसके कारण, दुष्प्रभाव और उपचार।

अशुद्ध रक्त वाहिकाओं की नसें क्या हैं सूजी हुई गांठें

सूजी हुई गांठों की वैरिकाज़ नसें मुख्य रूप से हाथों, पैरों, एड़ी, टखनों और पैर की उंगलियों में पाई जाती हैं। ये सूजी हुई और मुड़ी हुई नसें होती हैं, जो नीले या गहरे बैंगनी रंग की होती हैं।वे छिपे हुए हैं। ये नसें मकड़ी की नसों से घिरी होती हैं। ये नसें लाल और बैंगनी रंग की होती हैं और दिखने में बहुत पतली और पतली होती हैं। जब मकड़ी की नसें वैरिकाज़ नसों को घेर लेती हैं, तो उन्हें दर्द और खुजली का अनुभव होता है। वैरिकाज़ नसें ज्यादातर लोगों के लिए खतरनाक नहीं होती हैं, लेकिन कुछ मामलों में ये गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

वैरिकाज़ नसों के कारण

जब किसी व्यक्ति की नसों की दीवारें कमजोर हो जाती हैं, तो वैरिकाज़ नसें दिखाई देती हैं। जब रक्तचाप बढ़ जाता है, तो रक्त वाहिकाओं में दबाव बढ़ जाता है और वे चौड़ी होने लगती हैं।इसके बाद जब नसों में खिंचाव होने लगता है तो रक्त को एक दिशा में ले जाने वाले वॉल्व ठीक से काम करना बंद कर देते हैं।इसके बाद रक्त वाहिकाओं में खून जमा होने लगता है और नसें सूज जाती हैं, फिर यह त्वचा पर दिखने लगती हैं। शिराओं की दीवार के कमजोर होने के कई कारण हो सकते हैं। जैसे कि-

हार्मोनल असंतुलन

  • उम्र बढ़ने
  • वजन ज़्यादा होना
  • बहुत देर तक खड़े रहना
  • नसों पर दबाव

वैरिकाज़ नसों के लक्षण

विशेषज्ञों के अनुसार, वैरिकाज़ नसें किसी को भी दिखाई दे सकती हैं और यह काफी सामान्य है। लगभग एक तिहाई किशोरों में वैरिकाज़ नसें नहीं होती हैं।वैरिकाज़ नसों की पहचान कैसे करें या वैरिकाज़ नसों के लक्षण क्या हैं, आप उन्हें नीचे बताए गए कारकों से पहचान सकते हैं।

नसों से खून बहना: फैली हुई, सूजी हुई नीली या बैंगनी नसें वैरिकाज़ नसों के मुख्य लक्षण हैं।

खुजली: अगर आपके पैरों में नसों के आसपास खुजली हो रही है, तो यह भी वैरिकोज वेन्स का एक लक्षण है।

मोटे पैर: यदि किसी व्यक्ति के पैरों में सूजन है, अत्यधिक शारीरिक गतिविधि है, तो पैरों के पीछे की नीली नसें वैरिकाज़ नसें हो सकती हैं।

दर्द: अगर किसी के पैर में दर्द हो, खासकर घुटने के पिछले हिस्से में। तो यह वैरिकाज़ नसों का लक्षण हो सकता है।

वैरिकाज़ नसों की जटिलताएं

वैरिकाज़ नसें ज्यादातर लोगों के लिए खतरनाक नहीं होती हैं, लेकिन कुछ लोगों में गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकती हैं।यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो कुछ लोगों को अल्सर और रक्तस्राव हो सकता है। वहीं, कुछ लोगों में बिगड़ा हुआ रक्त वाहिकाएं भी ऐसी नसों को नुकसान पहुंचा सकती हैं, ऐसे में हृदय की रक्त पंप करने की क्षमता प्रभावित होती है।इसके अलावा, वैरिकाज़ नसों वाले लोगों में रक्त के थक्के होने की संभावना अधिक होती है। जो शरीर के लिए बेहद खतरनाक हो सकता हैऔर आप जानते हैं कि रक्त के थक्कों से हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं और कुछ मामलों में रक्तचाप के टूटने से मृत्यु भी हो सकती है।

वैरिकाज़ नसों, विशेष रूप से टखनों के पास की त्वचा पर अल्सर, दर्दनाक अल्सर पैदा कर सकता है। इससे त्वचा पर घाव हो सकते हैं। इसलिए, यदि कोई लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।

वैरिकाज़ नसों का उपचार

वैरिकाज़ नसों का इलाज लेजर थेरेपी या सर्जरी से किया जा सकता है।लेकिन अगर आप दैनिक जीवन में निम्नलिखित बातों का पालन करते हैं, तो उन्हें शुरुआत में रोका जा सकता है। बढ़ा हुआ रक्तचाप वैरिकाज़ नसों का कारण बनता है, इसलिए यदि कोई रक्तचाप कम करता है, तो इस समस्या की संभावना बहुत कम होती है। तो आप निम्न तरीकों का उपयोग करके रक्तचाप को कम कर सकते हैं और इस समस्या को रोक सकते हैं।

यह व्यायाम करें

  • अगर आपका वजन ज्यादा है तो वजन कम करने की कोशिश करें।
  • फाइबर अधिक खाएं और नमक का सेवन कम करें।
  • हाई हील्स और टाइट जूतों से बचें।
  • अगर आपके पैर में दर्द है तो सोते समय अपने पैरों के नीचे तकिया रख लें।
  • अगर आप ज्यादा देर तक खड़े रहते हैं तो पैरों को आराम देने के लिए कुछ देर बैठ जाएं।
  • अगर आपके पैरों में नीली या बैंगनी रंग की नसें दिखें तो घबराएं नहीं बल्कि डॉक्टर से सलाह लें, वह आपको सही सलाह दे सकता है|
अगर आपका कोई हेल्थ से रिलेटेड कोई भी सवाल हो तो अवश्य पुछें, हैं उसका अवश्य ही जवाब देंगे।

आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट में हमें जरूर बताएं

Health संबंधित जानकारीया पाने के लिए आप हमारे ब्लाॅग वेबसाइट पर जरूर विजिट करे| और किसी भी बिमारी के उपचार के लिए डाॅक्टर से परामर्श जरूर ले ताकि आपको किसी भी बिमारी का सही और सटीक इलाज मिल सके| और नियमित व्यायाम जरूर करे जिससे आपका शरीर हस्ट पुस्ट, तंदूरुस्त और मजबूत बना रहे|

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: