थायराइड की रोकथाम एवं आयुर्वेदिक उपचार

थायराइड की रोकथाम एवं आयुर्वेदिक उपचार

इस प्रकार कि सभी जानकारियां पाने के लिए आप हमारे ब्लाॅग वेबसाइट पर जरूर विजिट करें। थायराइड क्या है, कहा होता है, क्यों होता है और इसके आयुर्वेदिक उपचार क्या है क्या बढ़ती उम्र के साथ ये हमारे लिए कितना घातक है ये सभी जानकारियां हम आपको आज इस पोस्ट के माध्यम से बताएंगे। ये सब जानने के लिए आप हमारे ब्लाॅग वेबसाइट पर बनें रहिए और हमारे ब्लाॅग पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों को भेजें ताकि वो भी इसका पूरा पूरा फायदा जरूर उठा सके।

थायराइड क्या है और क्यों होता है, Hypothyroidism, लक्षण व घरेलू उपचार|


आज हम इस न्यूज़ में जानेंगे कि इस थायराइड जैसी बिमारीयों के घरेलू उपचार कैसे करे| और इस बिमारी के आयुर्वेदिक उपचारों को इस न्यूज़ में जानते हैं तो चलिए चलते हैं इस न्यूज़ पर

अदरक


अदरक में मौजूद गुण जैसे पोटेशियम मैग्नीशियम आदि थायराइड की समस्या से निजात दिलवाते हैं|अदरक में एंट्री-इंफलेमेटरी गुण थायराइड को बढ़ने से रोकता है

दही और दूध

दूध और दही में मौजूद कैल्शियम मिनरल्स और विटामिन्स थायराइड से ग्रसित रोगियों को स्वस्थ बनाए रखने का काम करते है
मुलेठी


थायराइड के मरीज जल्दी ही थक जाते हैं| ऐसे में मुलेठी का सेवन करना बेहद फायदेमंद होता है| मुलेठी में मौजूद तत्व थायराइड ग्रंथि को संतुलित बनाते हैं और थकान को ऊर्जा में बदल देते हैं|

गेहूं और ज्वार


गेहूं और ज्वार आयुर्वेद में थायराइड की समस्या को दूर करने का बेहतर और सरल प्राकृतिक उपचार है| थायराइड ग्रंथि को बढ़ने से रोकने के लिए आप गेहूं और ज्वार का सेवन करें|

साबुत अनाज


जौ,पास्ता और ब्रेड आदि साबुत अनाज का सेवन करने से थायराइड की समस्या नहीं होती है क्योंकि साबूत अनाज में फाइबर, प्रोटीन और विटामिन आदि भरपूर मात्रा में होता है जो थायराइड को बढ़ने से रोकता है|

लौकी


थायराइड की बीमारी से छुटकारा पाने के लिए रोजाना सुबह खाली पेट लौकी का ज्यूस पीएं| रोजाना इसे पीने से थायराइड की बीमारी ठीक हो जाती है|

विटामिन ए


थायराइड के मरीज को अपने भोजन में विटामिन ए की मात्रा बढ़ानी चाहिए| विटामिन ए थायराइड को कम करता है| गाजर और हरी पत्तेदार सब्जियों में विटामिन ए अधिक मात्रा में पाया जाता हैं|

थायराइड का धरेलू उपचार


1. थायराइड मुलेठी का सेवन करे| मुलेठी में पाया जाने वाला प्रमुख घटक ट्रीटपेनोइड ग्लाइसेरीथेनिक एसिड Thyroid cancer cells को बढने से रोकता हैं|

2. रात को सोते समय एक चम्मच चूर्ण गाय के गुनगुने दूध के साथ ले|इसकी पत्तियों या जड़ को भी पानी में उबालकर पी सकते हैं|अश्वगंधा हार्मोन्स के असंतुलन को दूर करता है|
3. दो चम्मच तुलसी के रस में आधा चम्मच एलोवेरा जूस मिलाकर सेवन करें|
4. हरी धनिया को पीसकर एक गिलास पानी में घोलकर पीए|इससे आराम मिलेगा|
5. प्रतिदिन एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें|यह बहुत फायदेमंद होता है|
6. प्रतिदिन दूध में हल्दी पका कर पीने से भी थायराइड का उपचार होता है|
7. खाली पेट लौकी का जूस पीने से थायराइड रोग में उत्तम काम करता है|
8. थायराइड में नियमित रूप से भोजन में थोड़ी मात्रा में कालीमिर्च का सेवन करें|
थायराइड का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार
थायराइड में ना खाएं ये फूड्स


1. फ्राइड फूड्स

1. फ्राइड फूड्स
2. काॅफी
3. सोया
4. गोभी
5. चीनी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: