तुरंत पाएं बवासीर में आराम | बवासीर के लक्षण, कारण और उपचार | बवासीर की आयुर्वेदिक उपचार जाने पूरी Health न्यूज़

तुरंत पाएं बवासीर में आराम | बवासीर के लक्षण, कारण और उपचार | बवासीर की आयुर्वेदिक उपचार जाने पूरी Health न्यूज़

बवासीर होने का कारण क्या है? बवासीर का लक्षण क्या है? बवासीर का इलाज क्या है? बवासीर कितने प्रकार का होता है? बवासीर में क्या खाना चाहिए? बवासीर में क्या परहेज करना चाहिए? बवासीर की दवा कौन सी है? बवासीर क्यों हो जाता है और इससे जल्द से जल्द कैसे छुटकारा पाएं? Piles ko thik karane ka gharelu nushkha, piles kya hai?

बवासीर होने का कारण क्या है? बवासीर का लक्षण क्या है? बवासीर का इलाज क्या है? बवासीर कितने प्रकार का होता है? बवासीर में क्या खाना चाहिए? बवासीर में क्या परहेज करना चाहिए? बवासीर की दवा कौन सी है? बवासीर क्यों हो जाता है और इससे जल्द से जल्द कैसे छुटकारा पाएं? Piles ko thik karane ka gharelu nushkha, piles kya hai?

अगर आपके मन में भी यही सवाल आते हैं तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें उम्मीद करते हैं कि यहां पर आपको संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी आपको कहीं जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।
तो चलिए शुरू करते हैं...

बवासीर क्या होता है?

बवासीर यानी पाइल्स एक ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को बहुत ज्यादा तकलीफ से गुजरना पड़ता है।

जिसे बवासीर हो जाता है उसे बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।

बवासीर हो जाने पर कई लोग ऑपरेशन कर आते हैं जिससे उन्हें बहुत ज्यादा तकलीफ होता है और बहुत ज्यादा पैसा भी खर्च होता है।

और कभी-कभी तो ऑपरेशन के बाद भी बवासीर ठीक नहीं होता है

किसी किसी को तो देखा गया है कि बवासीर का ऑपरेशन कराने के बाद भयानक कैंसर का सामना करना पड़ता है या और किसी किसी की मृत्यु हो जाती है।

यह एक ऐसी बीमारी है जिसका इलाज करना बहुत ही जरूरी होता है इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। नहीं तो यह बहुत ही ज्यादा खतरनाक हो सकता है।

बवासीर पहले तो 50 साल के आसपास लोगों में ही होता था 50 साल से ऊपर के लोगों में ही होता था।

पर आज के लाइफस्टाइल और अनियमित डाइट की वजह से यह बच्चों से लेकर बड़ों में सबको देखा गया है।

जिसे बवासीर हो जाता है उसके सेहत पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है।

उसका सेहत बहुत ही ज्यादा खराब हो जाता है और वह बहुत ज्यादा कमजोर हो जाता है। कहे तो उसके जिंदगी में बहुत भारी मुसीबत आ जाती है। लगता है कि कब्ज से छुटकारा पा ले।

और अंग्रेजी दवा लेते हैं और होम्योपैथिक का भी दवा लेते हैं पर कोई असर नहीं पड़ता।

इसकी वजह से और भी ज्यादा परेशान हो जाता है और ऑपरेशन कराने चले जाते हैं।

ऑपरेशन कराने के बाद कुछ दिन तक थोड़ी राहत रहती है और कुछ दिनों बाद फिर से मस्से आ जाते हैं।

इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखकर यह हमने सोचा है कि आपको ऐसा नुस्खा बताया जाए जो बहुत लोग आजमा चुके हैं और जिस से फायदा हो चुका है।

तो आप भी उससे फायदा उठा सकें और अपने जिंदगी में खुश रह सके।

पहले बात करते हैं कि बवासीर होता क्यों है इसके क्या कारण है। बवासीर होने का कारण जानना बहुत ही जरूरी होता है।

क्योंकि अगर आपको कारण पता रहेगा तो आप उसे से बचेंगे और वैसे जैसे खतरनाक रोगों से बचे रहेंगे।

इसलिए हम किसी भी बीमारी का इलाज बताते हैं तो उसका कारण भी बताते हैं ताकि आप उससे बच्चे और आपको यह बीमारी कभी ना हो।

बवासीर होने का क्या कारण है?

बवासीर यानी पाइल्स का सीधा संबंध पेट से होता है पेट में कब्ज आए तो पाइप होने का बहुत ज्यादा खतरा है।

गर्भवती महिला में भी बवासीर होने का ज्यादा चांस रहता है।

अगर आपका पेट खराब है काफी पुराना कब्ज है तो बवासीर यानी पाइल्स होने का खतरा रहता है। ऐसा क्यों होता है कारण हम आपको बताते हैं।

बवासीर आपको तो पता ही होगा मलद्वार के आसपास या मलद्वार पर होता है।

इसके वजह से कुछ लोग इसको नजरअंदाज करते रहते हैं। कुछ दिनों तक तो ऐसा चलता रहता है।

पर कुछ समय बाद में और ज्यादा खतरनाक हो जाती है जिसकी वजह से लोग डॉक्टर के पास चले जाते हैं और डॉक्टर कुछ दवाइयां दे देता है जिसको खाने के बाद बवासीर और ज्यादा तकलीफ दे हो जाता है।

इसलिए बवासीर का लक्षण पहचान कर तुरंत इसका सही समय पर सही इलाज करें।

किसी को कब्ज है तो मल का विसर्जन करते समय उसको ज्यादा दबाव डालना पड़ता है

जिसकी वजह से मलद्वार में मौजूद नसे सूज जाती हैं और इनमें खून भर जाता है।

जिसकी वजह से बवासीर की समस्या आती है।

तो आपको पता चल गया होगा कि बवासीर का सीधा संबंध पेट से होता है इसलिए आप अपने पेट का बहुत ही ज्यादा ध्यान रखें कब्ज तो ना होने दे अगर किसी को कब्ज हो जाए तो उसका लक्षण पहचान कर तुरंत उसका इलाज कराना चाहिए।

गर्भवती महिला में भी बवासीर होने का ज्यादा चांस इसलिए रहता है कि उससे भी मल का त्याग करते समय ज्यादा दबाव डालना पड़ता है जिसकी वजह से ज्यादा चांस रहता है कि बवासीर हो जाए पर जिसका पेट सही है उसे नहीं होगा।

एक ही पोजीशन में ज्यादा समय तक बैठने से भी बवासीर होने का खतरा रहता है।

इसलिए आप इन सभी कारणों को ध्यान में रखें और बवासीर से बचे रहें।

बवासीर के लक्षण क्या है?

बवासीर का लक्षण जाने से पहले यह जान लेते हैं कि बवासीर होता कितने प्रकार का है। और कौन से प्रकार में कौन से लक्षण दिखाई देते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बवासीर दो प्रकार का होता है।

  1. इंटरनल (अंदरूनी)

एक्सटर्नल (बाहरी)

एक्सटर्नल बवासीर क्या होता है? और लक्षण क्या हैं?

अब यह जान लेते हैं कि बाहरी यानी एक्सटर्नल बवासीर के क्या लक्षण है?

बाहरी बवासीर में दर्द होता है और मलद्वार के आसपास खुजली जलन भी होता है।

इसमें कुछ बाहर निकले हुए का एहसास होता है।

और अगर इनमें खून जमा हो जाए तो बहुत ज्यादा दर्द हो जाता है।

शौच में खून आना इसका सबसे आम लक्षण है।

अगर आपको यह सारे लक्षण दिखे तो आपको तुरंत इलाज कराना चाहिए। डॉक्टर के पास जाना चाहिए और कभी-कभी तो डॉक्टर लक्षण देखकर ही पता कर लेता है कि आपको बवासीर है कि नहीं।

और कभी कभी मलद्वार को दूरबीन द्वारा देखकर पता लगाया जाता है। और इसके कई सारे जांच होते हैं।

जिसकी वजह से आपको पता चल जाएगा कि आपका बवासीर है कि नहीं

अंदरूनी बवासीर के क्या लक्षण है?

अंदरूनी ब्वासीर में दर्द नहीं होता है। अंदरूनी बवासीर में खून आना आम बात है।

इसमें मल त्याग करते समय खून आता है । आपको बाहर कुछ निकले हुए होने का एहसास होता है पर अंदरूनी बवासीर में यह आकार में और भी बड़े हो जाते हैं और मल त्याग करते समय दबाव के कारण यह अपने आप बाहर आ जाते हैं।

बवासीर का इलाज क्या है?

बवासीर का आयुर्वेदिक और घरेलू इलाज क्या है?

इस आर्टिकल में हम आपको बिल्कुल आजमाया हुआ घरेलू नुस्खा आयुर्वेदिक इलाज और अंग्रेजी दवा भी बताएंगे।

अगर आप बवासीर से परेशान है या आपके संपर्क के संपर्क में कोई बवासीर से परेशान है तो अब आपको चिंता करने की कोई बात नहीं है अब आप बिना ऑपरेशन कराए ही सिर्फ कुछ दवाओं से और घरेलू नुस्खों से और परहेज करके बवासीर से बड़ी आसानी से छुटकारा पा सकते हैं।

किसी भी बीमारी का इलाज करने से पहले इसका कारण जानना जरूरी है कि यह बीमारी किस वजह से है अगर आप उस वजह को ही इलाज करके खत्म कर देंगे तो आप उस बीमारी से बड़ी आसानी से छुटकारा पा लेंगे।

इसलिए हम आपको इस आर्टिकल में यह भी बताएंगे कि आप पेट के कब्ज कैसे छुटकारा पा सकते हैं और।

मल त्याग करते समय ज्यादा दबाव ना डालना पड़े जिसकी वजह से आप को बवासीर में दर्द न सहना पड़े।

पहले हम आपको कुछ घरेलू नुस्खे बताएंगे। फिर अंग्रेजी दवा बताएंगे।

बवासीर को ठीक करने का घरेलू नुस्खा

बावासीर को खत्म करने के लिए हजारों नुस्खे बताएं जाते हैं। पर हर नुस्खा हर किसी को फायदा नहीं पहुंचाता है।

हम आपको 4 से 5 नुस्खे बताएंगे। जिनमें से अगर आप एक भी करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा राहत मिलेगा ।

दूध और नींबू का प्रयोग

बवासीर से छुटकारा पाने के लिए यह बहुत ही अच्छा नुस्खा माना जाता है।

इस नुस्खे को बहुत लोग करते हैं और उन्हें फायदा भी मिलता है।

इसके लिए आप एक गिलास दूध में एक नींबू निचोड़ लें और इसे पीले इससे बवासीर मैं काफी ज्यादा राहत मिलती है।

हल्दी का प्रयोग

बवासीर का इलाज करने के लिए हल्दी का भी प्रयोग किया जाता है।

इसके लिए एक चम्मच हल्दी और थोड़ा सा पैट्रोलियम जेली मिला ले अभी से अपने गुदा पर लगाए। इससे आपको दिन में तीन बार लगाना है ताकि हल्दी आप के घाव को भर सके और आप बवासीर से काफी जल्दी छुटकारा पा ले।

मुलेठी का प्रयोग

एक चम्मच मुलेठी को एक गिलास पानी में घोल ले और इसे पी ले। इससे बहुत ज्यादा आराम मिलेगा ।

हल्दी और एलोवेरा का उपयोग

हल्दी और एलोवेरा जेल को आधा-आधा चम्मच मिला लो और रात को सोते समय अपने गुदा पर लगाए। इससे बहुत ज्यादा आराम मिलेगा।

बवासीर कब्ज के कारण होता है तो आपको अपने पेट पर काफी ध्यान देना है।

आप कोशिश करें कि अपने पेट को बहुत साफ रखें।

बवासीर में आपका पेट बिल्कुल साफ होना चाहिए।

इसके लिए आप कब्ज को ठीक करने के बहुत सारे तरीके आजमा सकते हैं और आप राहत पा सकते हैं।

कच्चा लहसुन का प्रयोग

आपको अपने खाने में कच्चा लहसुन खाना है।

यह आप के पेट को काफी साफ रखेगा और आपको मल विसर्जन करते समय ढीला महसूस होगा।

यह आप के पेट को काफी साफ रखेगा और आपको मल विसर्जन करते समय ढीला महसूस होगा।

आपको अपने खाने में काफी ज्यादा सादा खाना खाना है तेल मसाला वाला खाना बिल्कुल भी नहीं खाना है।

बवासीर से बचने के लिए इलाज करने के साथ-साथ आपको अपने पेट पर काफी ध्यान देना है।

आप ऐसी चीजों का सेवन बिल्कुल भी ना करें जिसका सेवन करने से आपको गैस के प्रॉब्लम हो जाती है ।

कब्ज को ठीक करने के लिए आप ज्यादा पानी पिए।

ज्यादा फाइबर युक्त चीजों का सेवन ना करें।

बैगन की सब्जी और मसाला खाने से बचें।

अपने लीवर को ठीक करने के लिए आप LIV – 52 दवाओं का सेवन कर सकते हैं।

अपने पेट को ठीक रखने के लिए आप एक्सरसाइज भी कर सकते हैं।

सुबह उठने के बाद पहले तीन से चार गिलास गुनगुना पानी पीना चाहिए इससे आपका पेट साफ रहेगा और आपको बवासीर में काफी ज्यादा राहत मिलेगी।

बवासीर में जामुन का सेवन काफी फायदेमंद होता है

बवासीर से छुटकारा पाने के लिए आप को हम यहां पर दो अंग्रेजी दवाएं बताएं जिसको खाने के बाद आपका बवासीर जड़ से खत्म हो जाएगा चाहे वह खूनी बवासीर हो या बादी चाहे बाहरी हो या अंदरूनी।

बवासीर से छुटकारा पाने के लिए आप को हम यहां पर दो अंग्रेजी दवाएं बताएं जिसको खाने के बाद आपका बवासीर जड़ से खत्म हो जाएगा चाहे वह खूनी बवासीर हो या बादी चाहे बाहरी हो या अंदरूनी।

बवासीर में यह दवा बहुत ही ज्यादा काम करता है या बहुत लोगों ने खाया है और बहुत लोगों को आराम भी मिला है।

यह लिवर में इन्फेक्शन और जितने सारे पेट से जुड़ी समस्या रहेगी गैस बनना सब कुछ ठीक कर देगा।

आपको इन दोनों दवाओं का सेवन जरूर करना है इससे आपको पेट से जुड़ी कोई भी समस्या नहीं होगी और आप बवासीर से बचे रहेंगे।

बवासीर के लिए अंग्रेजी दवा

बवासीर को जड़ से खत्म करने के लिए और बहुत जल्दी छुटकारा पाने के लिए आपको लेना है सिपलॉक्स और मेट्रोजिल।

रोज सुबह खाना खाने के बाद आपको यह दोनों दवा खा लेना है एक साथ खाना है।

2 से 3 दिन में ही आपको बहुत ज्यादा आराम मिल जाएगा वह खून आना बंद हो जाएगा।

और 10 से 12 दिन उसका सेवन करने के बाद आपको बवासीर से छुटकारा मिल जाएगा आपका बवासीर की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगा आपका पेट भी बहुत ज्यादा ठीक हो जाएगा पेट हमेशा साफ होने लगेगा और आपको मल का विसर्जन करते समय काफी ज्यादा ढीला महसूस होगा।

अगर आपको पेट से जुड़ी कोई भी प्रॉब्लम है बवासीर या लिवर में इन्फेक्शन कुछ भी हो आपको इससे बहुत ही जल्दी आराम मिल जाएगा।

आप यकीन मानिए अगर आप इसे खाते हैं तो आपको इतना फायदा होगा कि आप हर बीमारी से बच जाएंगे क्योंकि यह आपके पेट को बहुत ज्यादा अच्छा रखेगा और पेट ही सब बीमारियों का जड़ होता है पेट अच्छा है तो आप सभी बीमारियों से बच जाएंगे|

बवासीर से बचने के लिए बेहतरीन दवाओं में से एक है इसलिए अगर आपको बवासीर का लक्षण दिखे तो तुरंत यह दोनों दवा लेना शुरू कर दें और आप बहुत जल्दी ठीक हो जाएंगे।

अक्सर ऐसा होता है कि कई लोगों को बवासीर हो जाता है और वह शर्म के कारण किसी को बता भी नहीं पाते हैं।

इसलिए आप यह दोनों दवाएं ले और इसका सेवन करें आपको बहुत जल्द राहत मिल जाएगा।

मैं एक बार फिर यह कह रहा हूं कि अगर आपको बवासीर से बचना है तो अपने पेट को साफ रखना है।

आप खाना खाने से आधा घंटा पहले और आधा घंटा बाद पानी पिए। खाने को खूब अच्छी तरह चबा चबा कर खाएं।

कई लोगों की आदत होती है कि वह खाना को अच्छी तरह नहीं चबाते हैं और ऐसे ही निगल जाते हैं इसलिए आप ऐसा ना करें खाने को लगभग 32 बार या उससे भी ज्यादा बार चबाकर ही खाएं।

जब तक एक बार खाया हुआ खाना ना पच जाए तब तक दूसरा खाना ना खाएं।

खूब अच्छी तरह भूख लगने पर ही खाना खाए।

अपने खाने में हरी सब्जियों को शामिल करें। और अपने खाने में सलाद जरूर शामिल करें।

सुबह टमाटर का या और सब्जियों का या फल का एक गिलास जूस जरूर पिए।

अगर आपको एसिडिटी की प्रॉब्लम है तो आप खाना खाने के बाद लगभग 10 ग्राम सौंफ जरूर खाएं।

ऐसा करने से आपका एसिडिटी का प्रॉब्लम खत्म हो जाएगा।

अगर आप इन सभी बातों को ध्यान में रखते हैं और इसे फॉलो करते तो आप का पेट हमेशा साफ रहेगा और आप को बवासीर की समस्या नहीं होगी और अगर है भी तो बहुत ही जल्दी ठीक हो जाएगी।

बवासीर में क्या परहेज करना चाहिए?

बहुत लोगों का यह सवाल होता है कि बवासीर में हम क्या-क्या खा सकते हैं क्या-क्या नहीं खा सकते हैं बसीर में क्या परहेज किया जाए कि बवासीर का बीमारी बहुत जल्दी ठीक हो जाए।

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए हम आज इस आर्टिकल में आपको यह बताने जा रहे हैं कि बवासीर में क्या क्या परहेज करना चाहिए। जिससे आप बहुत जल्दी ठीक हो जाए।

तो आइए जानते हैं वह कौन-कौन सी चीजें हैं जिन्हें बवासीर में नहीं खाना चाहिए और इसे ठीक होने के कुछ दिन बाद भी नहीं खाना चाहिए नहीं तो फिर बवासीर होने का खतरा रहता है।

ऊपर पढ़कर आपको यह पता चल गया होगा कि वह बवासीर का मेन कारण क्या है।

आप जानते हैं कि बवासीर का मेन कारण कब्ज है कब्ज को जड़ से खत्म कैसे करें? इसलिए आपको अपने पेट को बहुत ज्यादा साफ रखना है और हमेशा ऐसी चीजें खाना है जो आप खाते हैं तो आपको नुकसान नहीं करता और बहुत जल्दी से पच जाता है।

आपको ज्यादा तीखा और मसाले वाले चीजों को खाने से बचना है। मार्केट में आने वाली चटपटी चीजों को तो बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए जैसे चाऊमीन, मैगी और भी जितनी चटपटी चीजें आती हैं आप उन्हें बवासीर में ना खाएं।

आपको मैदे से बनी चीजों को बिल्कुल भी नहीं खाना है। आप हमेशा कोशिश करें कि हेल्थी खाना खाएं और ज्यादा मसालेदार चटपटी तीखी खाने से बचें।

कोल्ड ड्रिंक और जितने भी मार्केट में इस प्रकार के ड्रिंक आते हैं आप उनका सेवन बिल्कुल भी ना करें।

आपको आलू बैगन की सब्जी नहीं खानी है।

सब मिलाकर आप ऐसी चीजें बिल्कुल भी ना खाएं जो आपके पेट को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

बवासीर में क्या क्या खा सकते हैं?

अब बात करते हैं कि बवासीर में कौन-कौन सी चीजें खाई जा सकती है।

आपको बवासीर में ज्यादा फलों का सेवन करना चाहिए। फलों में आप आम , अमरूद, केला, जामुन, सेब, संतरा, पपीता , अनार और भी जितने फल हैं आप खा सकते हैं।

अनार, पपीता, जामुन बवासीर में ज्यादा फायदेमंद होता है नींबू भी ज्यादा फायदेमंद होता है।

सब्जियों में बात करें तो आप पालक, टमाटर, गाजर, तोरई, लौकी और भी जितने भी हरी सब्जियां हैं उनका सेवन करना चाहिए।

अनाज में

अनाज में आप जाओ या गेहूं की रोटी खा सकते हैं।

अनाज में आप जाओ या गेहूं की रोटी खा सकते हैं।

गेहूं के आटे के चोकर की रोटी खाना ज्यादा फायदेमंद होता है।

आप चावल भी खा सकते हैं और कोशिश करें कि ज्यादा रोटी की खाएं इससे बवासीर मैं आपको काफी ज्यादा राहत में मिलेगी।

अगर आप इस आर्टिकल में बताई गई सारी बातों को फॉलो करके बवासीर का इलाज करते हैं तो आप बहुत ही जल्दी बवासीर से छुटकारा पा लेंगे।

आपको यह जानकारी कैसी लगी कमेंट में जरूर बताएं। अगर आपका कोई सवाल है तो आप जरूर पूछें हम उसका जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो आगे से आगे भेजते रहे ताकि दुसरे लोगो को भी इसका पूरा पूरा फायदा जरूर मिलता रहे|

Health संबंधित जानकारीया पाने के लिए आप हमारे ब्लाॅग वेबसाइट पर जरूर विजिट करे| और किसी भी बिमारी के उपचार के लिए डाॅक्टर से परामर्श जरूर ले ताकि आपको किसी भी बिमारी का सही और सटीक इलाज मिल सके| और नियमित व्यायाम जरूर करे जिससे आपका शरीर हस्ट पुस्ट, तंदूरुस्त और मजबूत बना रहे|

धनयवाद

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: